Now Loading

देश में 4 दिन के कोयले का स्टॉक बचा, अँधेरे डूब सकता है देश

आने वाले दिनों में भारत अँधरे में डूब सकता है| क्योंकि देश में केवल 4 दिन का कोयला बचा हुआ है| ऊर्जा मंत्रालय (Ministry of Power) के मुताबिक कोयले पर आधारित बिजली उत्पादन केंद्रों में कोयले का स्टॉक बहुत कम बचा है| देश में 70 फीसदी बिजली का उत्पादन कोयले द्वारा किया जाता है| जानकारी के मुताबिक कुल 135 थर्मल पावर प्लांट ऐसे है जहाँ कोयले के 4 से 10 का ही स्टॉक बचा हुआ है| ऊर्जा मंत्रालय के मुताबिक कोरोना महामारी की वजह से ज्यादातर लोगों ने दफ्तर के साथ घरों से भी काम किया और इस दौरान बिजली का इस्तेमाल ज्यादा किया| हर घर को बिजली देने का लक्ष्य, जिससे पहले के मुकाबले बिजली की माँग काफी बढ़ी है| साल 2019 में अगस्त-सितंबर में बिजली की कुछ खपत 10,600 करोड़ यूनिट प्रति माह थी| यह आकड़ा 2021 में बढ़कर 12,420 करोड़ यूनिट प्रति माह पहुँची| चीन के साथ भारत में भी अब बिजली संकट पैदा हो सकता है|